Hindu-Muslim Ekta

हिन्दू – मुस्लिम एकता का अनोखा संगम : दाहोद

हिन्दू – मुस्लिम एकता का अनोखा संगम 

हम कई बार समाचार पढ़ते है की देश में फलां फलां जगह हिन्दू मुस्लिम या कोईभी जातीय दंगा हो गया| कभी कभी तो ऎसा भी होता है की एक ही कॉम के लोग आपस में लड़ पड़ते है| जहाँ भी देखो वहां धर्म और जाती के नाम पर दंगा फसाद|

लेकिन, इन सब के बावजूद देश में कही जगह ऐसी भी है जहा के लोग जानते है अमन और शांति के साथ ही प्रेमभाव और सदभावना से जीने का मजा क्या होता है| वैसी ही जगह है दाहोद शहर का ठक्कर फलिया| और गोदी रोड, ठक्कर फलिये में वैसे तो सभी जाती और धर्म के लोग रहते है| लेकिन हिन्दू और मुस्लिम जाती के लोग भी यहाँ बड़े आराम और भाईचारे से रहते है| यहाँ के लोग सभी धर्म के त्योहारों को मानाने में एक दूसरे का सहयोग करते है| चाहे वह राम नवमी, राम यात्रा हो या ईद, कोई भी त्यौहार हो लेकिन सहयोग सबका बराबर मिलता है|

और यह एक सर्वश्रेष्ठ उदहारण है जो सही मायनो में भारत के लोगों के विचारों को दर्शाता है| क्योंकि एकता ही ताकत है, क्योंकि लड़ना झगड़ना, और वोभी धर्म और जाती के नाम पर? ये तो अपनी ही असफलता दर्शाता है|

Unity is The Best Policy

“गांधीजी ने कहा है : हिंदू-मुस्लिम एकता का मतलब केवल हिन्दुओं और मुस्लिमो के बीच एकता नहीं है, बल्कि उन सभी के बीच है जो भारत को अपना घर मानते हैं, भले ही उनका विश्वास किसीभी धर्म पर हो|”

कितना अच्छा लिखा है : मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना, हिंदी है हम, वतन है, हिंदुस्तान हमारा |

Think Big, Grow Big!

Photo Provided by : Vasim Raja & Atul JainHindu-Muslim Ekta

टेक्नोलॉजी के इस युग मेभी अगर हम धर्म और जाती के नाम पर लड़ेंगे तो हम हमारे भारत को विश्व का शक्तिशाली देश कैसे बनाएंगे! क्योंकि शायद आज के बच्चे और जवानो को अच्छी शिक्षा, पढाई और अच्छे संस्कार जरुरी है, और दुनियाभर में भारत को संस्कारो का देश माना जाता है|

आज के बच्चे इस बेकार के लड़ाई झगडे के बारे में क्या सोचते है वह इस विडिओ में सुनिए और देखिये:

Source YouTube:

 

आइये हम सभी यह शपथ ले की हम अपने आपस के झगडे फसाद भूल कर देश की उन्नति में अपना योगदान दे, ताकि हमारा भारत दुनियाभरमें हमेंशा महान देश बना रहे|

जय हिन्द|

Comments

    Chinmay Chetan Merchant

    (26/03/2018 - 4:35 pm)

    Very Nice…Think about country

Leave a Reply