DigitalDahod

A Step Towards Digital India – Get all the Latest News from Dahod

कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019 | Opinion Poll 2019 | Loksabha

opinion poll 2019, kaun banega pradhanmantri 2019, 2019 mein kaun banega pradhanmantri, 2019 me kaun banega pradhanmantri, 2900 kaun banega pradhanmantri, कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019, Opinion Poll 2019, Loksabha Election 2019, २०१९ के चुनाव की चर्चा,  अबकी बार किसकी सरकार?

कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019 | Opinion Poll 2019 | Loksabha

क्या फर्क पड़ता है, चाहे जिसकी भी बने सत्ता
अपना तो वही काम-धंदा और वही वेतन-भत्ता।

मंत्री बनते ही, बन जाते है ये धनकुबेर
अपना तो वही घर-बार और वही माल-मत्ता।

मंत्री बनते ही, बदलती है इनकी शानो-शौकत
अपना तो वही राशन-पानी और वही कपडा-लत्ता।

मंत्री बनते ही, उड़ते रहते है ये विदेश
अपना तो वही बॉम्बे-दिल्ही और वही कलकत्ता।

मंत्री बनते ही, उड़नछू हो जाते है इनके वादे
अपना तो वही सुख-दुख और वही राजसत्ता।

क्या फर्क पड़ता है, चाहे जिसका भी कटे पत्ता
अपना तो वही मान-पान और वही लोकसत्ता।

सोना शाह

सभी जगह चुनावी माहौल चल रहा है, सभी चैनल्स पर भी २०१९ के चुनाव की चर्चा हो रही है| अख़बारों में भी हम यही सब पढ़ रहे है – देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा? सभी पार्टियां अपने अपने कार्यक्षेत्र और उनके अनुसार किये गए अच्छे कार्यों का पुर जोर से प्रचार करते है और साथ ही विरोधी पार्टियों की क्षतियाँ और भ्रष्टाचार के आरोपों को गिनाना भी नहीं भूलती|

लेकिन सोचने वाली बात है की जब से देश प्रजा सत्ताक हुआ है तब्ब से लेकर आज तक सभी नेता देश का विकास, भलाई और देश को शिक्षित, बेरोजगारी मुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाने के वादे करते आये है, साथ ही किसानों की समस्याओं को सुलझाने के भी वादे करते है| और आज भी सभी नेता अपने प्रचार में या अपने गुणगान में यही सब बातें दोहराते है| लेकिन सही में देखा जाए तो आज भी देश में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, गरीबी जैसी मुख्य समस्याओं का कोई सचोट हल नहीं दिख रहा| अगर नेताओं को सही में देश का भला ही करना है तो क्यों सभी पक्षों के कोई ना कोई नेता पर किसी न किसी प्रकार का कानूनी केस या अन्य कोई आरोप लगे हुए है|
देश में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, गरीबी जैसी मुख्य समस्याओं का सिर्फ एक ही उपाय है और वह है जनसँख्या को कंट्रोल करना| लेकिन किसी भी पार्टी के किसी भी नेता इस विषय पर कोई टिप्पणी नहीं करते और शायद कभी किसीने किया भी होगा तो उसका अमल नहीं किया, क्योंकि सभी को सिर्फ अपने वोट की पड़ी है, इसी लिए पिछली सरकारों ने या मौजूदा सरकार ने इस विषय पर कोई भी गम्भीर कदम नहीं उठाये| जबकि सभी समस्याओं का एक मात्र और सबसे जरुरी उपाय यही है|
पिछले दिनों आपको याद होगा लोक रक्षक दल की भर्ती चल रही थी, क्या आपको पता है यह भर्ती सिर्फ नौ हजार (9000) जवानों की थी लेकिन उसमे आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स की संख्या थी सात लाख (700,000) से भी ज्यादा! अब आपही अंदाजा लगा लीजिए की हमारे देश में कितने लोग बेरोजगार है| और ऐसे तो कहीं उदाहरण है| अब आपही अपने दिल पर हाथ रख कर सोचिये की इतनी बेकारी का सबसे बड़ा कारण क्या हो सकता है?

अबकी बार किसकी सरकार?

ऐसे में अब यह देखना है की अबकी बार किसकी सरकार बनेगी? और यह हमें और आप सबको मिल कर तय करना है की किस पार्टी को और किस उम्मीदवार को वोट दिया जाए| ज्यादातर हम सब की मुख्या उम्मीदें तो एक सी ही होगी – जैसी देश में भ्रस्टाचार, गरीबी, बेरोजगारी हटे, व्यापार में भी और उदारीकरण हो ताकि छोटे से छोटा व्यापारी अपने व्यवसाय को अच्छे से आगे बढ़ा सके| बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले| यह सब आम समस्याएं है जो हम में से ज्यादातर लोग चाहते होंगे|

opinion poll 2019, kaun banega pradhanmantri 2019, 2019 mein kaun banega pradhanmantri, 2019 me kaun banega pradhanmantri, 2900 kaun banega pradhanmantri, कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019, Opinion Poll 2019, Loksabha Election 2019, २०१९ के चुनाव की चर्चा,  अबकी बार किसकी सरकार?

क्या आपके पास वोटर आईडी(मतदार पहचान पत्र) है? मतदाता पहचान पत्र ऑनलाइन के लिए आवेदन कैसे करें

किसको वोट करे?

आगामी लोकसभा चुनाव के बस कुछ ही दिन बाकी है और सभी पार्टियां सत्ता में आनेके लिए भरपूर जोर आजमाईश कर रही है| राजनीतिक माहौल पर एक नजर डालें तो भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर काफी मजबूत पार्टी के तौर पर दिख रही है, लेकिन कुछ ही समय पहले हुए उपचुनावों में कांग्रेस ने बीजेपी को मात दी है| यानी आम जनता जो सही में देश के लिए और अपने लिए एक अच्छा और जवाबदार नेता चुनना चाहती है, वह भी उलझन में है की वोट दे तो किसे और किस मुद्दे पर! राम मंदिर जरुरी है, बेरोजगारी हटाना जरुरी है, गरीबी हटाना जरुरी है और सबसे बड़ी बात तो जनसँख्या पर नियंत्रण बहुत ही जरुरी है| भारत एक खेती प्रधान देश है इसलिए किसानों का ख्याल रखना जरुरी हो जाता है, लेकिन ६०-७० साल पहले जो हाल था किसानों का उसमे कुछ ख़ास सुधार नहीं हुआ|

opinion poll 2019, kaun banega pradhanmantri 2019, 2019 mein kaun banega pradhanmantri, 2019 me kaun banega pradhanmantri, 2900 kaun banega pradhanmantri, कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019, Opinion Poll 2019, Loksabha Election 2019, २०१९ के चुनाव की चर्चा,  अबकी बार किसकी सरकार?, वोट क्यों होते हैं?, हम चुनाव का बहिष्कार कर सकते हैं?, इस चुनाव में अगर कोई वोट नहीं डालता है तो क्या चुनाव आयोग जरमाना वसुलेगा?, वोट देने नहीं गए तो बैंक अकाउंट से कटेंगे ₹350 क्या यह न्यूज़ सही है या गलत?,  क्या लोकसभा 2019 में जो वोट वोट नहीं करेगा उस पर 350 रुपए चार्ज किया जाएगा?, हम वोट क्यों देते हैं?

वोट किसे दे?

अब यह तय करना मुश्किल हो गया है की वोट किसे जाएगा – नोट वाले को वोट दे या खोट वाले को? या फिर उस व्यक्ति को जो सही में देश और समाज के प्रति समर्पित हो? लेकिन यही तो सबसे बड़ी मुश्किल है, की कैसे जाने की उम्मीदवार कैसा है? क्योंकि हम पिछले ६०-७० सालों में देखते आये है की अच्छे वादे तो सभी करते है लेकिन सच्चे नहीं होते!! चलिए अब हम लोगों की क्या राय है वह जानते है! कृपया निचे दिए गए “जनता ओपिनियन पोल 2019” में से आपको जो सही लगे वह ऑप्शन चुने|

कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2019
  • BJP 75%, 21 vote
    21 vote 75%
    21 vote - 75% of all votes
  • Congress 21%, 6 votes
    6 votes 21%
    6 votes - 21% of all votes
  • bsp* 4%, 1 vote
    1 vote 4%
    1 vote - 4% of all votes
  • Can't Say 0%, 0 votes
    0 votes
    0 votes - 0% of all votes
  • Other 0%, 0 votes
    0 votes
    0 votes - 0% of all votes
Total Votes: 28
10/02/2019 - 31/03/2019
Voting is closed

वोट को लेकर हमारे मन में कहीं दुविधाएं होंगी| जैसे की –
– वोट क्यों होते हैं?
– हम चुनाव का बहिष्कार कर सकते हैं?
– इस चुनाव में अगर कोई वोट नहीं डालता है तो क्या चुनाव आयोग जरमाना वसुलेगा?
– वोट देने नहीं गए तो बैंक अकाउंट से कटेंगे ₹350 क्या यह न्यूज़ सही है या गलत?
– क्या लोकसभा 2019 में जो वोट वोट नहीं करेगा उस पर 350 रुपए चार्ज किया जाएगा?
– हम वोट क्यों देते हैं?
भाई हमारा देश सबसे बड़ा लोकशाही शाशन वाला देश है, यानि हमारे देश का प्रतिनिधि वही होगा, जिसको देश की जनता चुनेगी वोटिंग के जरिये| दूसरी बात चुनाव का बहिष्कार करना, लेकिन इससे फायदा नहीं है,बल्कि नुक्सान है| चुनाव का बहिष्कार करके आप अपना सही नेता चुनने के हक़ को ख़तम कर रहे है|
कुछ अफवाएं चल रही है की यदि हम वोट नहीं करेंगे तो जुर्माना लगेगा, तो यह जान लीजिये की यह सारी झूठी बातें है|

Leave a Reply